नीतीश-शरद में तलवारें खींची

March 16 2014


खांटी समाजवादी नेता शरद यादव और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का झगड़ा अब सडक़ों पर उतर आया है, सो शुक्रवार को नई दिल्ली में रामसुंदर दास के आवास पर शरद यादव ने जो होली-मिलन का समारोह रखा था, उसका रंग फीका रहा, भाजपा समेत 138 प्रमुख नेताओं को उस होली मिलन समारोह में न्यौता गया था, पर कोई भी प्रमुख चेहरा वहां दिखा नहीं, बड़ी संख्या में मीडिया वालों को भी बुलाया गया था, पर इक्के-दुक्के मीडिया वाले आए, यहां तक कि स्वयं शरद यादव ही उस होली मिलन समारोह में नहीं पहुंचे और न ही नीतीश आए। इस झगड़े की शुरूआत शरद की मधेपुरा सीट से हुई, नीतीश चाहते हैं कि शरद इस बार नालंदा से लड़े, नीतीश का तर्क है कि चूंकि मधेपुरा से पप्पू यादव लालू के टिकट पर लड़ रहे हैं सो शरद के लिए वहां का मैदान मुश्किल हो गया है, शरद का तर्क था-‘यदि मैं नालंदा चला गया तो मेरी हार तो पहले ही हो जाएगी, खांटी समाजवादी हूं सो मधेपुरा से ही लड़ूंगा।’ पटना की मीटिंग में शरद व नीतीश के बीच तू-तू मैं-मैं इस कदर हुई कि शरद ने गुस्से में धमकी दे डाली कि ‘अब न रहेगा जद(यू) और न बचेगी नीतीश सरकार’ सनद रहे कि बिहार विधानसभा में कुल 243 विधायक हैं, बीजेपी की टूट के बाद नीतीश के साथ 118 विधायक बचे हैं और वे कुछ निर्दलीयों और कांग्रेस के समर्थन से अपनी सरकार चला रहे हैं, सो अगर ऐसे में शरद अपने दर्जन भर समर्थक विधायकों को लेकर, नीतीश से अलग हो जाएं तो नीतीश सरकार संकट में आ जाएगी। वैसे भी शरद के कट्टïर समर्थक नरेंद्र सिंह नीतीश के पूरी तरह खिलाफ हैं। सो जब पटना की मीटिंग बीच में ही छोड़ कर शरद दिल्ली लौट आए तो पीछे-पीछे नीतीश भी दिल्ली आ गए और वे शुक्रवार की रात तीन बजे तक शरद को मनाते रहे।

 
Feedback
 
Download
GossipGuru App
Now!!