प्रियंका बनाम राहुल की टंकार

January 03 2022


पिछले तीन-चार महीनों से लगातार राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका के बीच अनबन की खबरें बाहर आती रही है। सूत्रों की मानें तो राहुल की नाराज़गी प्रियंका के निजी सचिव संदीप सिंह को लेकर ज्यादा है। सनद रहे कि ‘जेएनयू फेम’ वाले ये संदीप सिंह वही हैं जो 2019 के लोकसभा चुनावों में राहुल गांधी के ‘स्पीच राइटर’ हुआ करते थे, ये भी कहा जाता है कि ’चौकीदार चोर है’ का नारा भी इन्होंने ही गढ़ा था जो 19 के चुनावों में बुरी तरह से ’बैक फायर’ कर गया। कहते हैं भाई-बहन में इस मनमुटाव की शुरूआत भी यूपी चुनाव से हुई जब यूपी की स्क्रीनिंग कमेटी के दो अहम सदस्य भंवर जितेंद्र सिंह और वर्शा गायकवाड ने राहुल से शिकायत दर्ज कराई कि यूपी में टिकट बंटवारे में काफी झोल हो रहा है, टिकटों के बेचे जाने की भी अफवाहें हैं, सो इन्होंने एआईसीसी से आब्जर्वर भेजने की मांग की। इसके बाद ही राहुल ने 195 पर्यवेक्षकों की भारी-भरकम टीम यूपी भेज दी। गढ़चिरौली रैली को लेकर भी राहुल के पास लगातार यह शिकायत आ रही थी कि प्रियंका की रैली के नाम पर चंद्रपुर इंडस्ट्रियल टाउन से काफी पैसों की काफी वसूली हुई है, इसके बाद ही राहुल के कहने पर प्रियंका की गढ़चिरौली रैली रद्द कर दी गई। सूत्रों की मानें तो राहुल संदीप सिंह को हटाना चाहते हैं पर अलंकार सवाई के कहने पर उन्होंने यूपी चुनाव तक अपने इरादों पर विराम लगा दिया है। कहा जाता है कि राहुल के दरबार में अलंकार की उतनी ही चलती है जितना महत्व सोनिया के लिए अहमद पटेल का था। पर इन दिनों राहुल अलंकार से किंचित खफा-खफा रहते हैं, क्योंकि उनके पास पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं की आम शिकायत पहुंच रही है कि अलंकार उन्हें राहुल से मिलने का समय नहीं देते। अलंकार पर हालिया दिनों में ये भी आरोप लगे हैं कि महाराष्ट्र में जंबो कार्यसमिति बनवाने का आइडिया भी उन्हीं का है। सो, इन पांच राज्यों के चुनाव के बाद राहुल और प्रियंका की किचेन कैबिनेट में व्यापक फेरबदल देखने को मिल सकता है।

 
Feedback
 
Feedback
Name (required)
Email(required)
Comment
 
   
Download
GossipGuru App
Now!!