दामाद जी का अवसाद

November 07 2010


देश के सबसे बड़े राजनैतिक परिवार के वे दामाद जी हैं, वे हिट हैं, फिट हैं और स्पोर्टी हैं, देर रात तक चलने वाली पार्टियां उनकी कमजोरी है, अपनी उद्दात सियासी महत्वकांक्षाओं की दास्तांबयानी भी वे अपने एक हालिया इंटरव्यू में पहले ही कर चुके हैं। सो, जब दिल्ली में इतने ‘हाइप’ के साथ एक नया पब खुला तो उसके उद्धाटन पर दामाद जी को भी न्यौता गया, वक्त के पाबंद हैं दामाद जी, समय से आ गए, उन्हें सामने लगे एक वीआईपी टेबुल पर बिठा दिया गया, कुछ क्षणों बाद उसी टेबुल पर दिल्ली की एक अधेड़ फैशन डिजाइनर अपने बिल्कुल युवा पुरुष मित्र के साथ तशरीफ लाईं और दामाद जी का आकर्षण उन्हें उसी टेबुल पर खींच लाया। फैशन डिजाइनर का पुरुष मित्र (जो कि एक नवोदित मॉडल भी है) ऐसी पेज थ्री पार्टियों के लिए नया था, दो चार पेग में ही उसे चढ़ गई और सामने बैठे दामाद जी की ओर इशारा कर उसने भद्दी टिप्पणियां करनी शुरू कर दी, शायद वह दामाद जी के रुतबे से अनजान था, सो उसने दामाद जी की मूंछों पर ही फब्ती कसनी शुरू कर दी-’इस व्यक्ति की मूंछें मुझे पसंद नहीं’ उसकी अधेड़ महिला मित्र ने लाख समझाने की कोशिश की पर तब तक युवक बेकाबू हो चुका था, दामाद जी के सब्र का बांध भी टूट चुका था, जब तक दामाद जी के सुरक्षाकर्मी हरकत में आते, युवक ने बकायदा उनसे धक्का-मुक्की शुरू कर दी थी, पब के बाउंसरों ने फिर उस युवक को वहां से उठाकर बाहर फेंका, पर तब तक दामाद जी का दिल व नशा दोनों टूट चुके थे और इस घटना के तुरंत बाद वे अपने लाव-लश्कर के साथ वहां से बाहर निकलते देखे गए।

 
Feedback
 
Download
GossipGuru App
Now!!