श्री श्री और माल्या में क्या है कॉमन?

March 13 2016


विजय माल्या ट्वीट कर के कह रहे हैं कि ’वे भगोड़े नहीं’, जीने का सलीका सिखाने वाले धर्म गुरू श्री श्री रविशंकर खम्म ठोंक कर कहते रहे कि चाहे भेज दो जेल में पर वे एनजीटी द्वारा लगाया गया 5 करोड़ का जुर्माना नहीं भरेंगे, अब सवाल उठता है कि चार्वाक दर्शन के एक पुजारी और एक अध्यात्मिक गुरू में यह कैसी तुलना है भला? वह यह कि बढ़-चढ़ कर बयान देने वाले इन दोनों लोगों को सत्ता पक्ष का आशीर्वाद प्राप्त है, दुनिया जानती है कि माल्या को सात समंदर पार भगाने में मोदी सरकार के एक शक्तिशाली मंत्री की एक अहम भूमिका है, यह मंत्री महोदय साउथ से आते हैं और इनकी माल्या से दोस्ती तब से है, जब माल्या को जेडीएस के सहयोग से निर्दलीय राज्यसभा में आना था और देवेगौड़ा की पार्टी उनके लिए मात्र 7 सीटों का ही जुगाड़ कर पा रही थी, पेश 34 की गिनती भाजपा के साथ से ही पूरी हो सकी थी, तब इस भाजपा नेता ने कर्नाटक भाजपा के तत्कालीन प्रभारी अरूण जेटली से अनुनय-विनय कर माल्या की नैया पार करवाई थी। कहते हैं कि एवज में माल्या ने भी भाजपा नेता को अनुग्रहित किया, अपने महंगे यॉट्स, महंगे होटलों और महंगे तोहफों से उन्हें तर कर दिया, और इस दरम्यान कुछ अंतरंग पल कैमरे में ऐसे कैद हो गए जो मंत्री जी से मोलभाव करने के लिए काफी थे। सूत्र बताते हैं कि मंत्री जी के दबाव की वजह से सीबीआई को माल्या के लिए जारी अपने लुकआउट नोटिस की जुबान बदलनी पड़ी और अपनी लंदन की उड़ान के दौरान इमिग्रेशन वालों ने भी माल्या के ऊपर अपनी नज़रे इनायत बनाए रखी, दुनिया ने देखा कि श्री श्री के प्रोग्राम में कुदरत की तमाम बाधाओं (आंधी तूफान व ओलावृष्टि) को लांघते पीएम वहां पहुंचे, कार्यक्रम का आनंद लिया और ओजपूर्ण भाषण दिया। जब एनजीटी द्वारा लगाए गए जुर्माना को श्री श्री के लोगों ने यह कहते हुए भरने से मना कर दिया कि वह एक धार्मिक संगठन है और उनके पास पैसे नहीं। तब कांग्रेस व वाम नज़रिए को पोषित करने वाले एक न्यूज चैनल ने श्री श्री के संगठन के बैंक खातों के डिटेल को खंगालना शुरू किया, तो पता चला कि यह धार्मिक गुरू वाकई कितने अमीर हैं। चैनल का दबाव काम आया, आनन-फानन में जुर्माने की पहली किश्त 25 लाख भर दी गई। पीएम का दिल भी भर आया और सत्ता पक्ष भी भर-भर कर दोनों हाथों से नज़रे इनायत लुटाने को स्वतंत्र हो गया है।

 
Feedback
 
Download
GossipGuru App
Now!!