15 सितंबर की रैली में एक-दूसरे के स्वाभिमान को ललकारेंगे मोदी व अडवानी

September 09 2013


भाजपा की अंदरूनी राजनीति में 15 सितंबर का दिन एक नया तूफान लेकर आ सकता है। अपने जीवन की सबसे निर्णायक सियासी पारी खेल रहे लालकृष्ण अडवानी आगरा के फतेहपुर सीकरी के अकोला गांव के चौधरी चरण सिंह महाविद्यालय में, तो उसी रविवार के दिन भाजपा चुनाव अभियान समिति के प्रमुख नरेंद्र मोदी हरियाणा के रिवाड़ी के राव तुलाराम स्टेडियम में एक बड़ी पब्लिक रैली को संबोधित करने वाले हैं। अडवानी की रैली उनके नए धनुर्धर तथा रैलियों में भीड़ जुटाने की महारथ रखने वाले वरूण गांधी तो मोदी की भूतपूर्व सैनिकों की रिवाड़ी रैली को सफल बनाने में पूरी हरियाणा भाजपा जुटी है। इसके अलावा जनहित कांग्रेस के कुलदीप बिश्नोई तथा पूर्व आर्मी चीफ जनरल वी.के. सिंह भी जुटे हैं रिवाड़ी रैली को सफल बनाने में, क्योंकि रिवाड़ी और इसके साथ लगे जिलों महेंद्रगढ़, झज्जर व हिसार में पूर्व व वर्तमान सैनिकों की सबसे बड़ी आबादी बसती है। कहा जाता है कि यहां के हर घर का कोई न कोई भारतीय सेना में जरूर है। और इन पूर्व व वर्तमान सैनिको में जनरल वी.के.सिंह की काफी इज्जत है। सो, न सिर्फ भूतपूर्व सैनिकों की इस रैली में जनरल सिंह को बोलने के लिए न्यौता गया है बल्कि उस रैली में अपेक्षित भीड़ जुटाने में उनकी मदद भी ली जा रही है।
वरूण गांधी की अडवानी वाली आगरा रैली का तत्काल असर यह देखने को मिला कि आनेवाले 2 अक्तूबर को मोदी की एक बड़ी रैली आगरा-फतेहपुर सीकरी के साथ लगे मथुरा में आहूत थी। सूत्र बताते हैं कि आनन-फानन में मोदी की मथुरा रैली को तत्काल प्रभाव से कैंसिल कर दिया गया है। क्योंकि मोदी करीबियों को लगता है कि सिर्फ 15 दिनों के अंतराल पर सीकरी के बाद मथुरा में भारी भीड़ जुटाना संभव नहीं होगा। अडवानी व वरूण की सीकरी रैली के संयोजक व भाजपा में नए-नए शामिल हुए उस क्षेत्र के प्रमुख जाट नेता राजकुमार चाहर इस संवाददाता को बताते हैं, ‘अडवानी और वरूण की रैली को लेकर यहां के लोगों में व खासकर जाट समुदाय में काफी उत्साह है।’ चाहर दावा करते हैं कि पार्टी की 15 सितंबर की रैली में कम से कम 50 हजार लोगों की भीड़ अवश्य जुटेगी। जबकि सूत्र बताते हैं कि भाजपा महासचिव व पार्टी के यूपी प्रभारी अमित शाह अडवानी की सीकरी रैली की संकल्पना से कतई खुश नहीं हैं। उनको कहीं न कहीं ऐसा लगता है कि सीकरी रैली की छाया मोदी की मथुरा रैली पर भी पड़ सकती है। सो, उन्होंने वहां के संगठन के लोगों को बुला कर सर्वप्रथम तो अडवानी की रैली कैंसिल करने को कहा, पर उन्हें भाजपा के पदाधिकारियों की ओर से जवाब मिला कि चूंकि पूरे क्षेत्र में रेली से संबंधित होर्डिंग्स, बैनर, पोस्टर आदि लग चुके हैं, इस रैली का काफी प्रचार-प्रसार भी हो चुका है, सो अब इसे रद्द करना संभव नहीं हो पाएगा। सो, शाह बस हाथ मल कर रह गए। इस बारे में पूछे जाने पर राजकुमार चाहर कहते हैं कि ‘शाह की ओर से ऐसा कुछ किया गया है इसका संज्ञान उन्हें नहीं है। पर 15 सितंबर की रैली पार्टी संगठन की ओर से आयोजित रैली है जिसमें पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी, पार्टी के राष्टï्रीय उपाध्यक्ष सत्यपाल मलिक, कल्याण सिंह के पुत्र राजवीर सिंह जैसे बड़े नेता शामिल हो रहे हैं।’ वरूण गांधी ने अपनी फतेहपुर सीकरी रैली को अपनी पूर्व की रैलियों की तरह इसे भी ‘स्वाभिमान रैली’ का नाम दिया है। समझा जाता है कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह का भी इस ‘स्वाभिमान रैली’ को पूरा समर्थन हासिल है। क्योंकि वे मथुरा संसदीय क्षेत्र से अपने साढ़ू अरूण सिंह को मैदान में उतारना चाहता हैं। वहीं कहीं राजनाथ अडवानी और मोदी से अपने रिश्तों में एक सियासी संतुलन भी साधना चाहते हैं। क्योंकि उन्हें कहीं न कहीं ऐसा लगता है कि वे पार्टी व पार्टी से बाहर मोदी के नाम का अलख जगाते हुए कहीं आगे निकल आए हैं। शायद यही वजह है कि राजनाथ ने मोदी की रिवाड़ी रैली को संयोजित करने का पूरा जिम्मा पार्टी की हरियाणा यूनिट को दे रखा है। हरियाणा के पार्टी प्रभारी जगदीश मुखी पार्टी की केंद्रीय इकाई की ओर से दिल्ली में बैठकर रैली के कॉर्डिनेशन का काम देख रहे हैं। हरियाणा भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष रामविलास शर्मा से उन्होंने संपर्क बना रखा है और शर्मा ने अपने दो विश्वस्तों कैप्टन अभिमन्यू और पूर्व सांसद सुधा यादव को रैली आयोजन की सक्रिय जिम्मेदारी सौंप रखी है। इसके अलावा हरियाणा भाजपा के 6 संसदीय क्षेत्रों की पार्टी इकाईयां इस रिवाड़ी रैली को सफल बनाने के प्रयास में दिन-रात जुटी हैं। ये संसदीय क्षेत्र हैं-सिरसा, हिसार, रोहतक, भिवानी, गुडग़ांव और फरीदाबाद । देखना दिलचस्प रहेगा कि मोदी व अडवानी अपनी इन रैलियों में एक-दूसरे पर सीधा हमला साधते हैं कि इशारों-इशारों में अपनी बात कह जाते हैं। फिलवक्त पूरी भाजपा की निगाहें 15 सितंबर की इन दोनों रैलियों पर टिकी हैं।

 
Feedback
 
Download
GossipGuru App
Now!!