कौन होगा दिल्ली का भगवा सीएम

December 06 2019


पिछले दिनों भाजपा ने दिल्ली में एक व्यापक जनमत सर्वेक्षण करवाया है, इस सर्वेक्षण के संकेतों में भाजपा दिल्ली में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभर रही है, पर बहुमत से दूर नज़र आ रही है। सो, कहते हैं भाजपा शीर्ष ने तय किया है कि अन्य राज्यों की गलतियां दिल्ली में नहीं दुहराई जाएंगी। और यहां पार्टी अपना सीएम पद का चेहरा पहले पेश नहीं करेगी। चुनाव नतीजों के बाद इस पर विचार किया जाएगा। इस वक्त भाजपा की ओर से सीएम की रेस में तीन चेहरे शामिल हैं- मनोज तिवारी, हर्षवर्द्धन और विजय गोयल। दावा तिवारी का सबसे मजबूत माना जा रहा है। केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने एक कार्यक्रम में मनोज तिवारी को दिल्ली का अगला सीएम बता डाला, पर इस घोषणा के चार घंटे के भीतर ही उन्हें अपनी कही गई बातों पर सफाई देनी पड़ी। वैसे भी हरदीप पुरी कोई नेता नहीं, बल्कि एक ब्यूरोक्रेट हैं। दिवंगत अरूण जेटली उन्हें दिल्ली के सीएम के लिए सबसे मुफीद चेहरा मानते थे। एक तो वे सिख हैं, दूसरे नौकरशाह। सो दिल्ली के पंजाबी वोटर और नौकरीपेशा लोग उन्हें आसानी से अपना समर्थन दे सकते हैं, ऐसा जेटली का मानना था। यही वजह थी कि उन्हें मोदी मंत्रिमंडल में शहरी विकास मंत्रालय का जिम्मा दिया गया। वैसे भी पुरी जब लंदन में सेकेंड सेक्रेटरी थे तो उन्होंने अडवानी की पुत्रवधु गौरी अडवानी के मुआवजे का मामला निपटाने में अहम भूमिका निभाई थी। कहते हैं हरदीप पुरी के माध्यम से ही हिंदुजा बंधुओं ने अपने तार सबसे पहले अडवानी और भाजपा से जोड़े थे।

 
Feedback
 
Download
GossipGuru App
Now!!