भागवत कथा से परेशान शाह

April 29 2019


संघ प्रमुख मोहन भागवत के कुछ बयान न केवल भाजपा के गले की हड्डी बन जाते हैं बल्कि पार्टी को अलग-अलग चुनावों में उसकी कीमत भी चुकानी पड़ती है। बिहार विधानसभा चुनाव के वक्त भागवत ने ऐसा ही एक बयान देकर भाजपा की मुश्किलें बढ़ा दी कि ’आरक्षण को रिव्यू करने का वक्त आ गया है।’ चुनावी नतीजे गवाह हैं कि कैसे बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा को मुंह की खानी पड़ी। चार राज्यों के विधानसभा चुनावों की बेला आई तो संघ प्रमुख ने राम जन्मभूमि का मुद्दा उठा दिया। इन चुनावों के नतीजे भी भगवा पार्टी के लिए पीड़ादायक थे अब जबकि देश में आम चुनाव संपन्न हो रहे हैं तो पिछले सप्ताह नागपुर की एक सभा में स्वयं सेवकों को संबोधित करते हुए भागवत ने कह दिया-’पहले देश में 30-40 साल सरकारें राज किया करती थीं, अब तो सरकार 5 साल चलती है, सो स्वयं सेवकों को सरकार से अपेक्षा नहीं रखनी चाहिए, उन्हें जो भी करना है अपने बलबूते करे।’ संघ प्रमुख के इस बयान ने यकनीन शाह की पेशानियों पर बल बढ़ा दिए हैं।

 
Feedback
 
Download
GossipGuru App
Now!!