राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला

November 17 2019


अयोध्या विवाद पर शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला आने के बाद अब उन नायकों और प्रतिनायकों को ढूंढा जा रहा है जिन्होंने 1992 के राम मंदिर आंदोलन में बढ़-चढ़ कर अपनी सक्रियता दिखाई थी। मंदिर आंदोलन के नायक रहे लाल कृष्ण आडवाणी और उनके साथी मुरली मनोहर जोशी को मार्गदर्शक बना कर वानप्रस्थ की राह दिखा दी गई है। उमा भारती भी सियासत से संन्यास की मुद्रा में हैं। गोविंदाचार्य, प्रवीण तोगड़िया और विनय कटियार का कोई नामलेवा नहीं बचा है। कोर्ट का यह ऐतिहासिक फैसला आने के बाद जो नवांतुक नायकगण चांदी कूट रहे हैं उस वक्त वे कहां थे, यह पूछने का नैतिक साहस भी किस भगवा हड्डी में बचा रह गया है?

 
Feedback
 
Download
GossipGuru App
Now!!