राहुल के डिनर पर उनके चहेते

July 08 2019


संसद में सत्ता पक्ष जहां अपने सरकार 2.0 का पहला पूर्णकालिक बजट पेश करने की गहमा-गहमी में उलझा था, वहीं राहुल गांधी अपने खास विश्वासपात्र सांसदों के साथ भविष्य की रणनीतियां बुनने में मशगूल थे। विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि इसी क्रम में राहुल ने कोई तीन दिन पहले अपने नई दिल्ली स्थित आवास पर अपने खास भरोसेमंद व सांसदों को डिनर पर आमंत्रित किया। जहां असम के युवा सांसद गौरव गोगोई ने एक नई कांग्रेस की रूपरेखा की अवधारणाओं को सामने रखा तो तमिलनाडु से कांग्रेसी सांसद ज्योतिमनि ने इस बात पर चिंता जताई कि तमिलनाडु जैसे राज्य जो कभी कांग्रेस के मजबूत गढ़ में शुमार होते थे, आज वहां भी कांग्रेस को द्रमुक जैसे दलों की बैसाखी की जरूरत पड़ गई है। कहते हैं उस डिनर में केरल से कांग्रेस की सांसद रेम्या हरिदास बोलते-बोलते अचानक बेहद भावुक हो गईं और उन्होंने राहुल से कहा-’सर, हम जैसे तो आपसे प्रेरणा पाकर ही राजनीति में आए हैं, कांग्रेस में हमारी उम्मीदें आप से ही हैं, पर आप हमें छोड़ कर जा रहे हो!’ कहते हैं इस पर राहुल ने रेम्या को आश्वस्त करते हुए कहा कि ’वे कहीं नहीं जा रहे हैं, बल्कि अब तक उन्होंने दिन-रात एक कर कांग्रेस के लिए काम किया, पर पार्टी के कई सीनियर नेताओं की वजह से उन्हें लांछन सहने पड़े।’ राहुल ने आगे कहा कि अब कांग्रेस उनके लिए काम करेगी। बता दें कि यहां इशारों-इशारों में राहुल ने बता दिया कि अब पार्टी के सभी अहम निर्णय कोर कमेटी लेगी और सफलता या असफलता दोनों के दायित्वों को भी इस कोर कमेटी को ही अपनाना होगा। बताते हैं कि बातों ही बातों में राहुल ने अपने खास चहेते सांसदों के समक्ष यह जतला दिया कि जब भी उनके नेतृत्व में कांग्रेस को कोई बड़ी जीत मिली, पार्टी के सीनियर नेताओं ने उस पर अपना हक जता दिया, हार मिली तो वह राहुल के मत्थे मढ़ दिया।

 
Feedback
 
Download
GossipGuru App
Now!!