किसी पूर्व सैन्य अधिकारी को सौंपी जा सकती है जम्मू-कश्मीर की कमान

February 18 2019


हमारे बहादुर जवानों पर पाक प्रायोजित पुलवामा के नपुंसक हमलों ने केंद्र सरकार को यह सोचने को मजबूर कर दिया है कि क्या जम्मू-कश्मीर में नए राज्यपाल की दरकार है? वहां के मौजूदा राज्यपाल सत्यपाल मलिक को भाजपाध्यक्ष अमित शाह का बेहद करीबी माना जाता है। पर पुलवामा के कायराना हमले के बाद देश में पनप रहे आक्रोश, पीड़ा और संवदेनाओं के उफान के बाद एक तरह से जवाबी कार्यवाही की बागडोर स्वयं प्रधानमंत्री मोदी ने संभाल रखी है। यह चुनाव के पहले की घड़ी है, चुनांचे भाजपा व संघ नेतृत्व कार्यवाही से भी कहीं ज्यादा बड़ा संदेश पड़ोसी मुल्क को देना चाहता है। सूत्र बताते हैं कि प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में हुई उस उच्चस्तरीय बैठक में अपनी गलतियों को भी खंगालने की कवायद हुई और यह बैठक इस नतीजे पर पहुंची कि पुलवामा हमला भारतीय खुफिया व्यवस्था और सुरक्षा की भी एक बड़ी चूक थी। इस वक्त जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन लगा है और शासन की कमान वहां के राज्यपाल सतपाल मलिक के पास है। विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि मलिक की जगह किसी पूर्व सैन्य अधिकारी को जम्मू-कश्मीर का नया राज्यपाल बनाया जा सकता है, सूत्र बताते हैं कि यह राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल का आइडिया है और इस विचार को प्रधानमंत्री मोदी का वरदहस्त प्राप्त बताया जा रहा है।

 
Feedback
 
Download
GossipGuru App
Now!!