क्या मोदी-भागवत में सब ठीक नहीं चल रहा?

March 13 2019


खबर गर्म है कि इन दिनों संघ प्रमुख मोहन भागवत और प्रधानमंत्री मोदी के बीच के रिश्तों में एक तल्खी आ गई है। सूत्रों की मानें तो लंबे समय से मोदी और भागवत के बीच कोई सद्भावना मुलाकात नहीं हुई है। केंद्र सरकार की कई नीतियों को लेकर भागवत नाखुश हैं। खास कर सरकार की आर्थिक नीति और कश्मीर नीति को लेकर उनकी नाराज़गी सबसे ज्यादा बताई जा रही है। संघ को हमेशा से व्यापारी वर्ग का खुला सपोर्ट मिलता रहा है। जो इन दिनों सरकार के खिलाफ रोज कोई न कोई नई शिकायत लेकर संघ प्रमुख के पास पहुंच रहे हैं। एक वक्त था जब मोदी और भागवत के बीच कृष्ण गोपाल एक कड़ी के तौर पर काम करते थे। कृष्ण गोपाल स्मृति ईरानी के भी प्रबल समर्थकों में शुमार होते थे, पर कहते हैं इन दिनों मोदी ने कृष्ण गोपाल का सुनना बंद कर दिया है। संघ की ओर से दत्तात्रेय होसबोले ही एकमात्र ऐसे नेता कहे जा सकते हैं जिनके मोदी व शाह से किंचित बहुत मधुर रिश्ते हैं, पर इन दिनों होसबोले की बातों पर भागवत कान नहीं धर रहे। शायद यही वजह है कि संघ की उत्कंठाओं को यदा-कदा नितिन गडकरी अपने कथनों और भाषणों में स्वर दे देते हैं, कई बार कैबिनेट की बैठकों में भी गडकरी अपनी यह धमक दिखा जाते हैं।

 
Feedback
 
Download
GossipGuru App
Now!!