पुणे पुलिस की इतनी हिम्मत?

November 12 2018


मराठा दिग्गज शरद पवार की सांसद पुत्री सुप्रिया सुले ने पिछले दिनों पुणे के अपने फॉर्म हाउस में दीपावली की एक जोरदार पार्टी रखी थी। इस पार्टी में मुंबई-पुणे के कई बड़े उद्योगपति, फिल्म स्टार, क्रिकेटर, मीडियाकर्मी और राजनेता शामिल थे। यह पार्टी पूरी तरह दीपावली के रंग में डूबी थी कि अचानक रात के कोई बारह-साढ़े बारह बजे वहां पुलिस ने आकर पार्टी के रंग में भंग डाल दिया। दरअसल, पुलिस के वहां आने की वजह पुणे म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन का वह ऑर्डर था जिसमें कहा गया था रात के ग्यारह बजे के बाद पार्टी करना प्रतिबंधित है। जब इस बात की खबर पवार साहब को लगी तो वे बेतरह नाराज हुए और कहते हैं कि उन्होंने उसी वक्त महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस को फोन लगा दिया और उनके समक्ष अपनी नाराजगी व्यक्त की। फड़नवीस ने ऐसा दिखाया जैसे उन्हें कुछ मालूम ही नहीं, इसके बाद सीएम ने फौरन पुणे के पुलिस कमिश्नर से बात की। इस बाबत कमिश्नर का तर्क भी हैरत में डालने वाला था, उनका कहना था कि पुलिस वालों को पता ही नहीं चला कि इस फॉर्म हाउस से पवार परिवार का कोई लेना देना है, क्योंकि फॉर्म हाउस के बाहर किसी सदानंद सुले की नेम प्लेट लगी थी और बेचारे पुलिस वाले क्या जानें कि यही शख्स पवार साहब के दामाद हैं। इस घटना ने बता दिया है कि इन दिनों भाजपा और पवार में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है, और पवार जिस तरह आए दिन राहुल गांधी की तारीफों के पुल बांध रहे हैं, शीर्ष भगवा नेतृत्व इस बात को पचा नहीं पा रहा।

 
Feedback
 
Download
GossipGuru App
Now!!