Archive | August, 2019

नीतीश की पार्टी में बवाल के आसार

Posted on 17 August 2019 by admin

नीतीश कुमार की जदयू में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है, यहां भी पार्टी नेतृत्व के खिलाफ असंतोष के स्वर उभरने लगे हैं। ताजा मामला धारा 370 को लेकर है, नीतीश के बेहद करीबियों में शुमार होने वाले उनके राज्यसभा सांसद आरसीपी सिंह 370 को लेकर पहले नीतीश के स्टैंड के साथ थे और वे भी धारा 370 को हटाए जाने का विरोध कर रहे थे। पर पिछले कुछ दिनों से उन्होंने अपनी भाषा बदल ली है अब वे धारा 370 हटने का समर्थन कर रहे हैं। जब कि नीतीश के अन्य राज्यसभा सांसद केसी त्यागी और लोकसभा सांसद ललन सिंह धारा 370 हटाए जाने के विरोध में अलख जगा रहे हैं। आरसीपी के इस बदले-बदले रुख के पीछे प्रशांत किशोर फैक्टर बताया जा रहा है। जैसा कि सबको मालूम है पीके और आरसीपी में हमेशा छत्तीस का आंकड़ा रहा है। पीके के पीएम मोदी से अब भी अच्छे रिश्ते बताए जाते हैं। इन दिनों आरसीपी और पीके के आपसी रिश्तों में एक बड़ा बदलाव देखा जा सकता है, इनके रिश्ते किंचित मधुर हुए हैं। सूत्रों की मानें तो पीके ने ही पीएम से आरसीपी की बात करवाई, जिससे धारा 370 पर आरसीपी का स्टैंड बदल गया। कहते हैं राज्यसभा सांसदों को मैनेज करने का जिम्मा शाह ने पहले से ही पीयूष गोयल और भूपेंद्र यादव के सुपुर्द कर रखा था, ये दोनों भी कहीं पहले से इस कार्य में जुटे हैं। जदयू के सांसद और राज्यसभा के उप सभापित हरिवंश की नजदीकियां भाजपा के संग छुपी नहीं रह गई है, सो नीतीश ने एक तरह से तय कर रखा है कि इस बार वे हरिवंश को दुबारा राज्यसभा में नहीं भेजेंगे। आरसीपी को लेकर भी नीतीश ने शायद अपना मन बदला है।

Comments Off

जब पीएम ने की विजय गोयल की तारीफ

Posted on 17 August 2019 by admin

दिल्ली में चुनाव सिर पर हैं, दिल्ली में भगवा नेतृत्व का सिरमौर बनने के लिए दिल्ली के पुराने भाजपाई नेता विजय गोयल और दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी में होड़ मची है। पिछले दिनों सांसद भवन में वर्कशॉप को संबोधित करते स्वयं प्रधानमंत्री मोदी ने गोयल की तारीफों के पुल बांध दिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि ’विजय गोयल बहुत ही इनोवेटिव कार्य करते हैं, नए सांसदों को इनसे सीखना चाहिए।’ वहीं दूसरी ओर मनोज तिवारी दिल्ली में भाजपा के मुख्यमंत्री की रेस में सबसे आगे जान पड़ते हैं। वे भाजपाध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के भी बेहद दुलारे हैं। आज हालत यह हो गई कि दिल्ली में आप और कांग्रेसी नेताओं को भाजपा में लाने की गोयल और तिवारी में होड़ मची है। गोयल अपने मीडिया मैनेजमेंट के दम पर वैसे भी तिवारी पर बीस बैठते हैं।

Comments Off

बहुत गहरे हैं सुषमा स्वराज के नहीं होने के निहितार्थ

Posted on 17 August 2019 by admin

तारीखों की पेशानियों पर यह सिलवटों सा जो है/ बोसीदा हवाओं में ये रतजगों सा जो है
ज़र्रा-ज़र्रा में महक अब भी तेरे होने से जो है/ यह तेरी रूह की ज़र्रानवाजी है, जो वक्त के मौजों पर है।
इस शुक्रवार को जब नई दिल्ली के 15 जनपथ स्थित डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में भारतीय राजनीति में धूमकेतु सा चमकने वाली सुषमा स्वराज की उठावनी आहूत थी तो वहां उनके चाहने वालों का जनसैलाब उमड़ पड़ा। हॉल में जगह कम पड़ गई, तो हजारों की तादाद में लोगों को हॉल से बाहर लगे स्क्रीन पर अपने प्रिय नेता को अपना अंतिम श्रद्धा सुमन अर्पित करते देखा गया। हालांकि यह परिवार का एक निजी कार्यक्रम था पर उन्हें अंतिम श्रद्धा सुमन अर्पित करने के लिए बड़े नेताओं, विदेशी राजनयिकों व मंत्रियों में होड़ लगी थी। एक के बाद एक इतने वीआईपी जुटने लगे कि आगे की कतारों में कुर्सियों की कमी पड़ गई, रंजन भट्टाचार्य के लिए शाहनवाज हुसैन ने अपनी कुर्सी छोड़ दी तो मनोज तिवारी, निशिकांत दुबे जैसे भाजपा नेता भी मुख्य द्वार के समीप खड़े नज़र आए। शबाना आज़मी भी उस दरम्यान बेहद भावुक नज़र आईं, अपने खराब स्वास्थ्य के बावजूद मुरली मनोहर जोशी भी आए, विदेश मंत्री एस जयशंकर, रवि शंकर प्रसाद, डॉ. हर्षवर्द्धन, हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर और भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा की भी उपस्थिति देखी गई। विजय गोयल और मनोज तिवारी लोगों की अगवानी करते नज़र आए तो प्रबंधन का सारा जिम्मा अकेले सुधांशु मित्तल ने संभाल रखा था। सबको मालूम है कि सुषमा जी कृष्ण की अनन्य उपासकों में शुमार थीं, ’जय राधा माधव जय कुंज बिहारी हरे कृष्ण, हरे कृष्ण हरे हरे’ सुषमा जी के घर की लैंड लाइन पर भी यही धुन बजती थी। कृष्ण की अनन्य उपासिका सुषमा को जहां नीला रंग प्रिय था वहीं उनकी कोशिश रहती थी कि घर हो या गाड़ी उसका नंबर 8 होना चाहिए। वे लंबे समय तक 8 सफदरजंग लेन के अपने सरकारी आवास में रहती आई थीं। किडनी प्रत्यारोपन से पहले भी सुषमा ने कहा था कि ’जैसा कृष्ण चाहेंगे वही होगा, उन पर ही सब छोड़ती हूं।’ जब मंचासीन गायक मंडली ने सुषमा जी के सबसे प्रिय भजन को गाना शुरू किया तो उनके पति स्वराज कौशल और पुत्री बांसुरी स्वराज अपने भावनाओं के अतिरेक को नहीं रोक पाए। बांसुरी एक बेहद संक्षिप्त उद्बोधन के लिए मंच पर आईं, और जब उन्होंने कहा कि उनकी मां संसद में शेरनी-सा दहाड़ती थीं, लेकिन जब हंसती थी तो लगता था यह किसी पांच वर्ष के बच्चे की बाल सुलभ हंसी है। बांसुरी ने अपने कमाल की हिंदी और शब्दों के चयन से साबित कर दिया कि वह अपनी मां की गौरवशाली विरासत की असली उत्ताधिकारी हैं।

Comments Off

370 पर कांग्रेस में घमासान

Posted on 17 August 2019 by admin

नई दिल्ली में आहूत कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में जितिन प्रसाद ने सवाल उठाया कि धारा 370 को लेकर कांग्रेसी नेताओं के विरोधाभासी बयान सामने आ रहे हैं, इससे लोगों में भ्रम की स्थिति बन रही है। इस पर गुलाम नबी आजाद ने जितिन को टोकते हुए कहा-’पार्टी नेताओं की इस बारे में अपनी निजी राय हो सकती है, पर जहां तक पार्टी लाइन का सवाल है कांग्रेस पार्टी कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने के खिलाफ है।’ इस पर यूपी के कांग्रेसी नेता आरपीएन सिंह उठ खड़े हुए और उन्होंने कहा कि यूपी में लोग धारा 370 हटाए जाने के पक्ष में हैं। इस पर पी चिदंबरम ने आरपीएन को टोकते हुए कहा-’यूपी इज नॉट इंडिया, कांग्रेस इज ए नेशनल पार्टी’ (अर्थात यूपी ही पूरा हिंदुस्तान नहीं है, भूलिए मत कि कांग्रेस एक राष्ट्रीय दल है) पर कांग्रेस पार्टी के अंदर धारा 370 को लेकर एक स्पष्ट विभाजन साफ-साफ दिखने लगा है, पार्टी के ज्यादातर युवा नेता धारा 370 हटाए जाने के पक्ष में बताए जाते हैं पर पार्टी के सीनियर नेताओं की राय किंचित दीगर है।

Comments Off

Download
GossipGuru App
Now!!